DocsApp
· 1 min read

विटामिन और उनके फायदे

विटामिन और उनके फायदे

आज हम नहीं, बल्कि खुद विटामिन करेंगे आपसे अपने बारे में बात | ध्यान से पढ़िए क्या कहना चाहते हैं यें आपसे |

नमस्ते! मैं विटामिन ए हूँ
बहुत से लोग मुझे रेटिनॉल के नाम से भी जानते हैं , क्यूंकि मैं आपकी रेटिना में मौजूद एक पिग्मेंट को बनाता हूँ, जिसकी वजह से आपकी आँखों की रोशनी बरकरार रहती है | मैं फैट सॉल्युबल विटामिन हूँ , और मेरे ही कारण आपकी त्वचा चमकती दमकती है | सिर्फ इतना ही नहीं मैं आपके इम्यून सिस्टम को भी मज़बूत रखता हूँ | बीफ, अंडा , गाजर , पालक आदि में मैं उपलब्ध हूँ |

गर्भवती महिलाओं के लिए विशेष सूचना : गर्भावस्था के समय खाने में मेरी मात्रा 770 मिलीग्राम तक ली जा सकती है, इससे ज़्यादा लेने पर बच्चे में बर्थ डिफेक्ट्स आ सकते हैं |

नमस्ते! मैं विटमिन सी हूँ
मैं एक वॉटर सॉल्युबल विटामिन हूँ, और आपके शरीर की मरम्मत करता हूँ | मैं एक एंटीऑक्सीडेंट भी हूँ| आपकी आँखों , स्पर्म प्रोटीन और डीएनए की देखभाल भी करता हूँ | जब भी आपको चोट लगती है तो मैं कोलेजन सिंथेसिस में मदद करता हूँ |
पपीता , पत्ता गोभी , संतरा , शिमला मिर्च, गोभी आदि में मैं हमेशा मिलता हूँ | मुझे रोज़ाना खाने में 90 मिलीग्राम (आदमी) और 75 मिलीग्राम (औरत ) की मात्रा में खाना चाहिए|

प्रणाम! मैं विटामिन डी हूँ
वैसे आप सब शायद मुझे पहले से ही जानते होंगे या अपनी मम्मी से मेरे बारे में सुना होगा | अगर आप धुप से नहीं डरते तो मैं आपके शरीर में पूरी तरह से मौजूद हूँ | मुझे पाने के लिए आपको किसी चीज़ को खाने की ज़रुरत नहीं | मेरी वजह से ही आपके शरीर में कैल्शियम है |
शरीर में मेरी कमी होने से मांसपेशियों में कमी, हाई ब्लड प्रेशर, लो इम्युनिटी और कैंसर का खतरा बड़ सकता है | मेरे दो प्रकार हैं :
डी 3 ( जो जानवरों से मिलता है )
डी 2 ( जो हरी सब्ज़िओ से मिलता है)
आपकी उम्र के हिसाब से खाने में मेरी मात्रा होनी चाहिए|
आपके शरीर में मेरी मात्रा 100 से 150 nmol/L के बीच होनी चाहिए |

नमस्ते! मैं विटामिन ई हूँ

मैं आपके शरीर में एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता हूँ | मैं लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करता हूँ और विटामिन के की भी मदद करता हूँ | अगर आपके शरीर में मेरी मात्रा ठीक है, तो आपको दिल की बिमारी, डायबिटीज , अल्जाइमर रोग, रूमेटाइड आर्थराइटिस और फोटोडर्माटाइटिस जैसी बिमारियों के होने का खतरा कम है | चुकुन्दर, सरसों, अवोकेडो , शकरकंदी और अंडो में मैं होता हूँ | आपके शरीर में उम्र के हिसाब से मेरी मात्रा होनी चाहिए |

हेलो! मैं विटामिन एफ हूँ

मैं दो फैटी एसिड्स से बना हूँ - लिनोलिक एसिड और एल्फा-लिनोलिक एसिड | आप मुझे सिर्फ खान पान की वस्तुओं से ही पा सकते हें, क्यूंकि शरीर में मेरा बन पाना थोड़ा मुश्किल है |
नट्स , सीड्स , केनोला ऑइल , फिश, वॉलनट ऑइल,फ्लैक्स सीड ऑइल आदि में मेरी भरपूर मात्रा है |
मैं आपके शरीर में मांस-तंतु को बनाता हूँ और उन्हें करता हूँ और इसके अलावा मैं रिप्रोडक्टिव हैल्थ, त्वचा और बालों की देखभाल भी करता हूँ |
आपके पुरे दिन की कैलोरी का 1-2 % हिस्सा मेरा होना चाहिए |

अब अंत में मैं विटामिन के

मैं अन्य विटामिन से थोड़ा अलग हूँ | जब आपके शरीर से खून बहता है तब मैं आपकी मदद करता हूँ | मेरे दो साथी हैं - विटामिन के1 और विटामिन के2.
विटामिन के1 आपको हरी सब्ज़ियों और अन्य सब्ज़ियों में मिलेगा|
विटामिन के2 आपको मीट, चीज़ और अंडे में मिल सकता है |
बड़ों के विपरीत मेरी कमी बच्चों में बहुत होती है | हर इंसान के अनुसार मेरी ज़रूरत घटती या बढ़ती है|

चलिए उम्मीद है की हमारे बारे में आपकी जानकारी में वृद्धि आई होगी | अब जो आप जान ही गए हैं तो अगली बार खाना खाते या बनाते समय हमें याद रखिएगा | |

खुश रहिए | स्वस्थ रहिए |