DocsApp
· 1 min read

गूगल नहीं , डॉक्टर से बात कीजिए

गूगल नहीं , डॉक्टर से बात कीजिए

हम 21वीं सदी के लोगों के हिसाब से दुनिया के सभी जवाबों का एक मात्र ज़रिया है गूगल| गूगल से किसी भी बात की जानकारी लेना इतना आसान है, की अब बीमार होने पर भी हम डॉक्टर के बजाए गूगल से सलाह लेते हैं |

हम सभी ने काफी बार अपनी बिमारी का इलाज गूगल से पूछा है | और शायद हम ऐसा करते रहेगें | पर अगली बार आप गूगल सर्च करें, इससे पहले हम आपको कुछ बताना चाहते हैं |

  1. गूगल नहीं देता जवाब
    ये शायद आप सभी को अजीब लगे, लेकिन गूगल आपके सवालों का जवाब नहीं देता | गूगल केवल आपके सवालों से सम्बंधित कुछ वेब पेज आपको दिखाता है और जो भी आप गूगल पर पढ़ते हैं, वह सब इंसानो द्वारा ही लिखा गया होता है| कहने का मतलब यह है कि गूगल भी गलत हो सकता है |

  2. जवाबों की भरमार
    जब जवाब आपकी सेहत को लेकर हो , तो क्या तब भी आप अनेक जवाब चाहेंगे? ज़ाहिर है नहीं |
    गूगल आपके एक सवाल के हज़ार जवाब देता है | जितने ज्यादा जवाब उतनी ही बड़ी होगी आपकी दुविधा| ऐसे में आप उसी जवाब को सही मानते हैं , जो आपकी स्तिथि से मिलता जुलता हो | पर क्या ये तरीका सही है ?

  3. गूगल को फर्क नहीं पड़ता
    गूगल ना तो आपको देख सकता है, ना महसूस कर सकता है और ना ही आपकी बात को समझ सकता है| लेकिन एक डॉक्टर यह सब काम बखूबी कर के, आपको सही राय भी देगा | गूगल का जवाब सही है या नहीं इसका अनुमान आप खुद लगाते हैं, गूगल किसी भी जवाब की ज़िम्मेदारी नहीं लेता |

  4. अस्थायी इलाज
    शायद हाँ, आपके पिछले हफ्ते के सर दर्द का इलाज गूगल ने बखूबी बता दिया हो | बेशक आप अगली बार भी गूगल कि राय लेना चाहेंगे | लेकिन क्या वह इलाज सच में आपके सर दर्द का सही इलाज था?

5 . गलत चिकित्सा
गूगल से दवा का पर्चा डाउनलोड करना, शायद ये आपकी सबसे बड़ी बेवकूफी है | टेक्नोलॉजी बेशक बहुत आगे बढ़ चुकी है, लेकिन कुछ चीज़ें हैं जिनकी अहमियत अभी भी वही है , जैसे कि डॉक्टर की राय | एक गलत दवा सच में आपकी ज़िन्दगी बदल सकती है | एक बार फिर सोचें |

  1. गूगल किसी की परवा नहीं करता
    गूगल के लिए आप उन लाखों करोड़ो में से एक हैं, जो रोज़ाना उससे हज़ारो सवाल करते हैं| गूगल का काम है पूछे गए सवालों के लिए हज़ारो जवाब देना| यह आपसे आपके रोग के बारे में कभी खुद कुछ नहीं पूछेगा, जिस प्रकार डॉक्टर रोगी के रोग में दिलचस्पी दिखातें हैं, इसके विपरीत गूगल सिर्फ रोगी के सवाल में रूचि रखता है |

गूगल कितना भी सही क्यों ना हो, यह इंसान की जगह नहीं ले सकता |

अपनी सेहत के मामले में जोखिम ना लें , पछताने से अच्छी है सावधानी | आज ही डॉक्सऐप डाउनलोड कीजिए |

डॉक्टर या गूगल, फैसला आपको करना है |