गायनोकॉलोजी - महिला रोग विशेषज्ञ से ऑनलाइन बात सिर्फ डॉक्सऐप पर !

गायनोकॉलोजी - महिला रोग विशेषज्ञ से ऑनलाइन बात सिर्फ डॉक्सऐप पर !

DocsApp
DocsApp

गायनोकॉलोजी महिलाओं के विज्ञान से सम्बन्धित है | इसमें मुख्यरूप से महिलाओं की प्रजनन प्रणाली और स्तनों पर काम किया जाता है | महिलाओं की सबसे आम बीमारियों में हैं पीरियड्स सम्बंधित परेशानियां, पीसीओएस / पीसीओडी ( पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम / पॉलीसिस्टिक ओवरी डिजीज ), मासिक धर्म का बंद होना, थाइरोइड और गर्भावस्था से संबंधित सभी परेशानियां|

पीसीओएस/ पीसीओडी
पीसीओएस आज एक बहुत ही आम समस्या है| इसका कारण है महिलाओं के हॉर्मोन्स में बदलाव आना | इस में पीरियड्स की समस्याएं आने लगती हैं और गर्भावस्था में भी मुश्किलें हो सकती हैं |
पीसीओएस की वजह से अनचाहे बाल, मोटापा, पिम्पल्स आदि जैसी समस्याओं का होना आम बात है | यदि अगर समय पर इसका इलाज़ ना किया जाए तो यह समय के साथ डायबिटीज(मधुमेह) और हृदय रोग जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बन सकता है|

मासिक धर्म और समस्याएं
युवावस्था के दौरान उचित शारीरिक परिवर्तन बहुत महत्वपूर्ण है और महिलाओं का मासिक धर्म से पहले स्तन में हल्की सूजन या दर्द जैसे कुछ लक्षण महसूस करना आम बात है | प्री-मेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पी एम एस), जो महिलाओं की सबसे आम समस्या है , इसके दौरान भावनात्मक और शारीरिक परेशानियां हो सकती हैं | इसमें मुंहासे, सर दर्द, कब्ज़, डिप्रेशन आदि हो सकते हैं|
पीरियड्स के दौरान महिलाओं को कईं अन्य समायाएं जैसे कि - रक्त का ज़्यादा बहाव, कमर और पीठ दर्द, अनियमित रक्त बहाव, सर दर्द और माइग्रेन का भी सामना करना पड़ सकता है|

मासिक धर्म का बंद होना
मासिक धर्म का बंद होना हर महिला अपने जीवन में 45 से 55 साल की उम्र में अनुभव करती है| इसका मतलब है कि अब वह महिला कभी भी माँ नहीं बन सकती | पीरियड्स के बंद होने के बाद काफी परेशानियां जैसे कि - नींद ना आना, खाना ना पचना, पसीने आना, चिड़चिड़ापन, यौन सम्बंधित समस्याएं आदि हो सकती हैं|

थाइरोइड
आज थाइरोइड एक आम समस्या बन चुका है|इसका कारण है अति सक्रिय या निष्क्रिय थाइरोइड ग्रंथि | थकान, डिप्रेशन, मूड स्विंग, चिड़चिड़ापन और नींद में परेशानी थाइरोइड के लक्षण हो सकते हैं |