DocsApp
· 1 min read

बाल झड़ने के 5 मुख्य कारण

बाल झड़ने के 5 मुख्य कारण

सिर पर  काले, घने, रेशमी, मुलायम बालों की चाहत हर व्यक्ति का सपना होता है। बालों से हमारी ख़ूबसूरती तो बढ़ती ही है, पर उसके साथ ही हमारे व्यक्तित्व के आकर्षण में भी बढ़ोतरी होती है। यह कहा जा सकता है कि बालों से हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ता है लेकिन पिछले कुछ समय से महिला और पुरुष दोनों में ही बालों की समस्या तेज़ी से बढ़ रही है| इस समस्या से बच्चे, युवा, अधेड़ और बड़ी उम्र के लोग भी बराबर से जूझ रहे हैं | महिलाओं की तुलना में पुरुषों में बालों के झड़ने की समस्या अधिक देखी जाती है, जो बढ़ते- बढ़ते उन्हें गंजेपन की ओर ले जाती है। बालों के झड़ने का कारण अनुवांशिक तो हो ही सकता है परंतु हमारी कुछ छोटी छोटी आदतें भी होती हैं जिनकी वजह से  हमारे बाल  झड़ने लगते हैं|

रोज़मर्रा की आदत

कंघी करते समय थोड़े बाल गिरना तो सामान्य है लेकिन रोज़ अधिक मात्रा में बाल गिरने लग जाए तो यह चिंता की बात हो सकती है। हमारी रोज़मर्रा की कुछ आदतें ऐसी होती हैं जिनकी वजह से हमारे बाल झड़ने लगते हैं। जैसे कि कुछ लोग अपने बालों में रोज़-रोज़ शैम्पू करते हैं। शैम्पू का केमिकल बालों को नुक्सान पहुँचाता है जिससे तेज़ी से बाल गिरने लगते हैं। खूब गर्म पानी से बाल धोने की आदत भी बालों की सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। उसी प्रकार, गीले बालों में कंघी करना भी बालों को कमज़ोर करता है जिससे बाल झड़ने लगते हैं | यदि आप बाल सुखाने के लिए ड्रायर का इस्तेमाल करते हैं तो निश्चित ही आपके बाल झड़ेंगे |

बालों पर नए नए प्रयोग करना

आधुनिक  फैशन के चलते  बालों के साथ नए - नए प्रयोग करने का चलन तेज़ी से बढ़ रहा है । कलरिंग, स्ट्रेटनिंग, और बालों को घुंघराले करना आदि,  युवा वर्ग में खूब पॉपुलर है | जो बालों की सेहत के लिए ठीक नहीं होता | इनमें जिस तरह से हीट और केमिकल्स का प्रयोग होता है वे बालों को  बहुत ज्यादा नुक्सान पहुँचाते हैं। युवा वर्ग के साथ-साथ, अधेड़ उम्र के लोगों में भी सफेद बालों को छिपाने के लिए उन्हें काला करना अब सामान्य होता जा रहा है। मेहँदी का स्थान धीरे-धीरे केमिकल युक्त कलर्स ने ले लिया है | जिनसे बालों को नुक्सान पहुँचने के साथ बाल तेज़ी से झड़ते तो हैं ही साथ ही इनसे त्वचा संबंधी रोग भी हो सकते हैं।

बिमारियाँ भी हैं बाल झड़ने का कारण

महिलाओं में जहाँ पीसीओएस, थाइरोइड, हीमोग्लोबिन की कमी, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति आदि के समय बालों के झड़ने की समस्या बढ़ जाती है। वहीं पुरुषों में अत्यधिक ध्रूमपान, मदिरा सेवन और कभी कभी हृदय संबंधी बिमारियाँ भी बाल झड़ने का कारण बनती हैं। यदि सिर में किसी तरह का संक्रमण हो गया है तो भी हमारे सिर से बाल झड़ने लगते हैं | किसी बिमारी के दौरान ली जाने वाली दवा के दुष्प्रभाव के कारण भी आपके बाल झड़ने शुरू हो सकते हैं।

तनाव, चिंता, स्ट्रेस भी हैं कारण

आज की भागदौड़ भरी ज़िंदगी में बढ़ते स्ट्रेस, तनाव, चिंता से अन्य बिमारियों के अलावा बाल झड़ने की समस्या भी बढ़ रही हैं। कई बार लोग अन्य बिमारियों का तो इलाज करवा लेते हैं परन्तु बालों को नज़रअंदाज़ कर देते हैं जिससे यह समस्या बढ़ जाती है।

खान पान की गलत आदतें

खान पान की गलत आदतें शरीर के लिए बहुत हानिकारक हैं। भोजन में पोषक तत्वों की कमी फ़ास्ट फ़ूड का अधिक सेवन, बहुत ज़्यादा डॉयटिंग जहाँ हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को नुक्सान पहुँचाता है |  वहीं शरीर के महत्वपूर्ण हिस्से,  बालों, की सेहत भी इससे प्रभावित होती है। भले ही आप बालों की ऊपरी साफ़ सफाई और खूब साज -सज्जा कर लें, लेकिन यदि उन्हें पोषक तत्वों से भरपूर भोजन नहीं मिलेगा तो निश्चित ही आपके बाल तेज़ी से झड़ेंगे ।

बालों को झड़ने से रोकने के 4 उपाय

1. सही तरीका चुनें

बालों को तौलिए की सहायता से ही सुखाइए | गीले बालों में कंघी न करें। बाल धोने के लिए ठन्डे या गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें। जहाँ तक हो, बाल सुखाने के लिए हेयर ड्रायर के उपयोग से बचें। यदि बालों की समस्या अनुवांशिक है तो छोटी उम्र से ही आपको अपने बालों की अतिरिक्त देखभाल करनी चाहिए।

2. झड़ते बालों को नज़रअंदाज़ न करें

यदि आपके बाल अचानक ही तेज़ी से झड़ रहे हैं तो इस बात को नज़रअंदाज़  न करें | बल्कि इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश कीजिए | यदि किसी बिमारी की वजह से बाल झड़ रहे हैं तो तुरंत उसका इलाज करें | यदि किसी दवाई का साइड इफेक्ट है तो उस पर ध्यान दें और अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

3. बालों से अधिक छेड़छाड़ न करें

बाल हमारे शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं इसलिए इनके साथ नए-नए प्रयोग करने से बचें। फैशन के साथ साथ बालों की सेहत का भी ध्यान रखें। यह मान लीजिए कि अप्राकृतिक चीज़े बालों के लिए नुक्सानदायक ही होती हैं |

4. जीवनशैली में करें बदलाव

यदि आप अपनी दिनचर्या और भोजन में कुछ बदलाव करें तो निश्चित ही आपकी बालों की सेहत में भी सुधार आने लगेगा | पोषक तत्वों से भरपूर भोजन करें  जिससे आप अन्य बिमारियों के अलावा बालों की समस्या से भी छुटकारा पाया जा सके। अपनी दिनचर्या को नियमित करें। कुछ शारीरिक गतिविधियों को अपने जीवन का हिस्सा बना लीजिए और तनाव कम करने के लिए  योग भी किया जा सकता है | अपनी काली, घनी, रेशमी ज़ुल्फ़ों को सुन्दर और बचाए रखने के लिए उनकी सही देखभाल कीजिए | ज़रूरत पड़ने पर डॉक्टर की सलाह भी ली जा सकती है।

क्या आप जानते हैं कि DocsApp गोल्ड खरीदने पर आप साल भर में स्वास्थ्य सम्बन्धी खर्चों पर ₹5000 तक की बचत  कर सकते हैं ? DocsApp गोल्ड खरीदने पर आपको मिलते हैं पूरे 1 साल तक अनगिनत परामर्श 20 मेडिकल विभाग के विशेषज्ञ डॉक्टरों के साथ, केवल ₹999 में !